Author: Vansika Singh

लहसुन के उपचार तथा फायदे —

लहसुन के उपचार तथा फायदे —

कुछ और
लहसुन  किसी भी बेजान सब्‍जी के स्‍वाद को जानदार बना देता है. लेकिन लहसुन   में ऐसे गुणकारी तत्‍व मौजूद होते हैं जो आपको कई बीमारियों से दूर रखते हैं. लहसुन  एक वंडर फूड है. हम सब्जी   अच्छे टेस्ट के लिए लहसुन  का इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा  लहसुन  के कई और भी फायदे हैं जिसे लोग नहीं जानते, रोज नियनित तौर पर लहसुन का सेवन शरीर की तमाम व्याधियों को दूर कर देता है।लहसुन आम तौर पर सभी घरों में पाया जाता है और कई गुणों से परिपूर्ण और स्वास्थ के  लिए लाभकारी लहसुन के बारें में आइये जानते है यदि आप प्रतिदिन सुबह एक या दो लहसुन की कलियों का सेवन करतें है तो आपको ह्रदय के रोंगों से राहत मिलेगी यदि आपको निमोनिया बुखार जुकाम पुरानी सर्दी आदि की शिकायत है तो प्रतिदिन लहसुन की डो कलियों का सेवन करें ट्यूबरक्लोसिस (तपेदिक) में लहसुन पर आधारित इस उपचार को अपनाएँ। एक दिन में लहसुन की एक पू
प्रदूषण एक गहन समस्या

प्रदूषण एक गहन समस्या

कुछ और
आज विज्ञान और तकनीकी विकास तेजी से हो रहा है। आधुनिक साधनों को प्राप्त करने की होड़ में मनुष्य अंधाधुन्ध लगा हुआ है। ऐसे में ये सफलतायें उसके लिए नयी नयी मुसीबतें भी खड़ी कर रही हैं। हरित क्रान्ति, औद्योगिक विकास, यातायात के साधनों का विकास तथा शहरों की बढ़ती हुई जनसंख्या इन सब से वातावरण प्रभावित हो रहा है। धरती पर पर्यावरण की रचना वायु, जल, मिट्टी,पौधे वनस्पति और पशुओं के द्वारा होती है। मनुस्य खुद ही दुनिया भर में प्रदूषण  रूपी एक  गढ्ढा खोद रहा है और पृथ्वी पर रहने वाले जीवो के लिए गंभीर समस्या  उत्पन्न कर रहा है| जीवन की गुणवत्ता दिन-ब-दिन गिरती जा रही है क्योकि प्रदुषण एक राक्षक की तरह काम कर रहा है| आज के इस बदलतें समय में यदि हम इसी तरह अपने वातावरण को प्रदूषित करतें रहे |तो वो दिन दूर नहीं जब लोग अपने ही घरों में कैद रहने को मजबूर हो जायेंगे |और हम अपनी आगे की आने वाली प
केले के 8 असरदार फायदे

केले के 8 असरदार फायदे

कुछ और
केले के पत्ते  बहुत शुभ होतें  हैं इसीलिए हम इसका उपयोग पूजा में भी करते हैं। दक्षिणी भारत मेंकेले के पत्ते  का प्रयोग खाना परोसने में बहुत होता है। केले के पत्त्ते पर खाना खाना स्वास्थ्यप्रद माना जाता है। केले के पत्ते पर गर्म खाना परोसने से यह पत्ते में मौजूद पोषक तत्व भी खाने में मिल जाते हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। केले के पत्ते के फायदे  कई दक्षिण भारतीय राज्यों में, केले के पत्ते पर भोजन परोसना पारंपरिक होता है। आएये जानते है केले के पत्तों के कुछ बेहतरीन फायदे - केले से आप अपना बढ़ता वजन कंट्रोल कर सकते हैं. मोटापा शरीर की सुंदरता को खराब करता है.। वजन बढ़ने से कई बीमारियां भी शरीर को लग जाती है.। केले का  सेवन डायबिटीज को नियंत्रित  करता है। केला एक प्रकार के स्टार्च से भरपूर होता है, जिसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स की मात्रा बेहद कम होती है, जिससे यह पच
आम के पत्ते के 10 ओषधिय फायदे

आम के पत्ते के 10 ओषधिय फायदे

कुछ और
प्रकृति हमें कई बीमारियों का उपचार स्वयं उपलब्ध कराती है, आमतौर पर प्राकृतिक उपचार के  कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होते हैं इसमें  कोई संदेह नहीं है कि फलों का राजा आम स्वास्थ्य लाभों का खजाना है। लेकिन इसके अलावा आम के  पत्तों के  बारे में आपका क्या ख्याल हैं आम के  मुलायम पत्ते  आपके लिये संजीवनी का काम कर सकते हैं,आएये जानते है आम के पत्तों के फायदे -- अगर आपको अस्थमा की दिक्कत है तो आम की पत्तियों का काढ़ा बना कर पिएं। इस समस्या से निजात मिलेगा। अगर आपको हिचकी आ रही हो और हिचकी बंद होने का नाम नहीं ले रही तो आम की पत्तियां उबालकर उससे गरारे करें। अगर आप जल गए हैं तो उस पर आम की पत्तियों का राख लगाएं। जलन से राहत मिलेगा। यदि किसी   को पेचिश की समस्या है तो आम के पत्तों को छाया में सुखाकर उसका पाउडर बना कर दिन में तीन बार देने से आराम मिलेगा। आम की पत्तियों का पाउडर पथरी स
बच्चे और उनकी शिक्षा –

बच्चे और उनकी शिक्षा –

कुछ और
बच्चे  का सबसे पहला विद्यालय उसका घर और सबसे पहले गुरु उसके माता-पिता होते हैं। शिशु शुरुआती अवस्था में अपने माता-पिता से ही सारी क्रियाएं सीखता है और अपना ज्ञान अर्जित करता है। माता-पिता न सिर्फ बच्चों  को अच्छी शिक्षा  देते हैं बल्कि सही-गलत की पहचान कराते हुए बच्चों  का स्वर्णिम भविष्य बनाने का भी काम करते हैं। बच्चे  माता-पिता का मार्गदर्शन पाकर सभी कठिनाईयों पर विजय पाते हुए अपने सपने को साकार करते हैं।  अभिभावकों को चाहिये कि उनके बच्चे  जब तक शिक्षा के क्षेत्र में अपनी बुद्धि तथा पैरों के बल खड़े होने लायक न हो जायें उनकी  शिक्षा  तथा सांसारिक दीक्षा में पूरी रुचि लेते रहें। उन्हें अनुभव देते और उनका अनुभव बढ़ाते रहें। जो अभिभावक ऐसा स्वयं न कर पाते है वे अपने बच्चो  बच्चों   को पुस्तकों, शिक्षालयों तथा अध्यापकों पर छोड़ देते हैं वे उनकी शिक्षा के बाद भी कच्चा रह जाने देने की भूल कर
हिंदी हमारी पहचान

हिंदी हमारी पहचान

कुछ और
हमारी पहचान  एक ऐसे उज्ज्वल भविष्य की कहानी बयां करती है जिसकी एक समृद्ध विरासत है। यह अपने नाम की तरह 'ही अलग विरासत बनाए रखती  है और इसके आगे मौजूद 'जिन्दगी  शब्द उम्मीद जगाता है तथा उज्ज्वल भविष्य दर्शाता है हम सभी भारतीय है और भारत में  रहतें है और हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी है हमें भारतीय होने का गर्व होना चाहिए। हमारा  जो ज्ञान  है वो बहुत अमीर  रहा है। हमारा  देश सोने की चिड़िया इसी ज्ञान और संस्कृति के कारण जाना जाता है पर  आज के इस बदलते दौर में लोग हिंदी को महत्वशाली न मानकर अंग्रेजी की तरफ ज्यादा आकर्षित हो रहे है लोग अपने ही देश में रहते हुए हमारी राष्ट्रभाषा  हिंदी को भूलते जा रहें है उन्हें ऐसा न करकर दोनों ही भाषाओं को समान महत्त्व देना चाहिये क्यूंकि भारत में रहते हुए जितनी जरूरत हिंदी की है उतनी ही जरूरत अंग्रेजी की भी है भारत में रहने वाले प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है की
एलोवेरा के फायदे तथा नुकसान

एलोवेरा के फायदे तथा नुकसान

कुछ और
एलोवेरा  कई गुणों से संयुक्त मरुस्थल में पाया जाने वाला कांटेदार पौधा है एक औषधीय पौधा है और यह भारत में प्राचीनकाल से ग्वारपाठा या धृतकुमारी नाम से जाना जाता है यह एडॉप्टोजेन मानव शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने और वातावरण में होने वाले बदलावों के प्रभाव को तेजी से शरीर में ढालता है।आएये जानते है एलोवेरा के फायदे -- यदि आपकी त्वचा जल गयी है तो उस पर शहद और एलोवेरा लगाने से आराम मिलता है एलोवेरा का इस्तेमाल जख्म घाव जलन मुंह के छालों में करना चाहियें एलोवेरा दुनिया का सबसें बढि़या एंटीबाईटीक और एंटीसेप्टिक गुण वाला होता है। जो हमारे शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।सभी एलोवेरा दुनिया का सबसें बढि़या एंटीबाईटीक और एंटीसेप्टिक गुण वाला होता है। जो हमारे शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। हमारे शरीर में मोटापा होने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल तेजी से बढ़
क्या हमारे समाज में आज भी नारी शिक्षित है।

क्या हमारे समाज में आज भी नारी शिक्षित है।

कुछ और
एक अच्छे समाज का निर्माण  तभी होता है जब उस समाज में रहने वाले लोग पूर्णतया शिक्षित हो और उनकी मानसिकता भी शिक्षा के अनुसार ही प्रभावशाली हो... ऐसा तभी सम्भव हो पाता है जब उस समाज में रहने वाले स्त्री और पुरुष समान रूप से शिक्षित हो हमारे प्राचीनकाल के महापुरुषों ने भी यही कहा है यदि पुरुष रक्षक  है तो नारी उसकी ढाल  है। दोनों ही समाज में बराबर के भागीदार  है ।तो क्यों आज के इस  बदलते समय  मे नारी आज भी बन्धनों से बंधी हुई है माना की आज हमारे देश की नारियां आसमान छू  रही है हर मंजिल  पे लड़कों से कही आगे जा रही है  ।पर मुख्य तौर यदि हम ध्यान दे तो आज भी उन पर कई बंदिशें है जो कहीं न कही हमारे द्वारा ही लगायी है पर उन लाख  बंदिशों के बाद भी वो उड़ान भर  रही है  जिसे देखकर कोई भी व्यक्ति फूला नहीं समाता होगा पर इन  सभी के बावजूद यदि एक बार हम खुद से सवाल करें तो शायद इस  सवाल का जवाब हमें हमार
अपने स्वास्थ की देखभाल कैसें करें

अपने स्वास्थ की देखभाल कैसें करें

आज के इस बदलते समय में हम अपनी निजी जिन्दगी में इतना व्यस्त हो चुके है की हम हर तरफ की भाग -दौड़ करते  हुए अपने स्वास्थ की तरफ ध्यान नहीं दे पातें है जिससे हमारा स्वास्थ बिगड़ता चला जाता है और कभी -कभी आगे चलकर यह बड़ी बिमारी का रूप धारण कर लेता है ऐसे में अपने स्वास्थ के साथ -साथ सभी के स्वास्थ का ध्यान कैसे रखें आज के समय में यह सबसे बड़ी चुनौती  है आइये जानते है की अपने स्वास्थ के साथ -साथ सभी के स्वास्थ का ध्यान कैसे रखा जाएँ -- जितना ज्यादा हो सके पानी पीयें.क्यूंकि पानी हमारे स्वास्थ को ठीक रखने में महत्वपूर्ण  भूमिका निभाता है। रात में कम से कम सात से आठ घंटे की नींद बेहद जरूरी होती है। दिन की नींद से ज्यादा फायदेमंद रात की नींद होती है। इसलिए कोशिश करें कि आप अपने सोने का एक टाइम टेबल बना लें। नींद पूरी लेने से चेहरे पर एक अलग निखर आता है। कुछ लोग अपने तनाव को दूर करने
सात दिनों में मोटापा कैसे घटाएं

सात दिनों में मोटापा कैसे घटाएं

कुछ और, मोटापा
यदि आप अपनी पेट की चर्बी और वजन कम करने का प्रयास कर रहे हैं तो आपको पहले ये जानना चाहिए की वर्तमान में आपका वजन कितना है, इसके बाद आपको बॉडी मास इंडेक्स मालूम करना होगा, इसमें आपकी लम्बाई और उम्र के हिसाब से आपके शरीर का फैट पता चलेगा जिससे आप ये जान सकेंगे की लंबाई के मुताबिक़ आपका वजन कितना होना चाहिए। इस प्रक्रिया से ये पता चलेगा की आप के शरीर का मोटापा कितना अधिक है और कितना कम करने की जरुरत है  मोटापा आपकी पर्सनालिटी ख़राब करने के साथ साथ कई रोगों का मुख्य कारण भी है। पाचन तंत्र ठीक काम ना करने से वजन कम और जादा होने जैसी परेशानियां होने लगती है। सही तरीके और सही समय पर खाना ना खाना और खाने पीने की बुरी आदतों की वजह से पाचन शक्ति कमज़ोर होने लगती है मोटापा कम करने के उपाय - दोपहर को भोजन करने के बदले कच्चे सब्जी जैसे की खीरा, टमाटर, प्याज और हरी पत्ते वाली सब्जी को चबा