यह बुखार सिर्फ डेंगू के मच्छर के काटने से ही फैलता हैं। हम यहां आपको डेंगू का इलाज घरेलु नुस्खे व उपाय के साथ बताएंगे, इसके लिए एलोपैथिक में भी कोई दवा नहीं होती हैं। इसलिए डेंगू के बुखार में आयुर्वेदिक उपचार का ही सहारा लेना होता हैं.।

dengu bukhaar ko gharelu nuskhon dwara kaise door karen

आइये जानते है की डेंगू बुखार को दूर करने के लिए हम कौन -कौन से घरेलु नुस्खे अपना सकते है 

सुबह शाम शहद में गिलोय के रस को मिलाकर पीने से डेंगू के बुखार में आराम मिलता है तथा यह बुखार को समाप्त करने में मदद करता है ।

बकरी के दूध का सेवन करने  से डेंगू के बुखार में आराम मिलता है तथा यह बुखार को समाप्त करने में मदद करता है ।

पपीते के पत्तों को पीसकर की तरह देने से डेंगू के रोगी को आराम मिलता है तथा प्लेटलेट्स की संख्या बढती है ।

गिलोय के पत्तों को पीसकर पाउडर की तरह या गोली बनाकर सुबह -शाम ले आप इसको काढ़े की तरह या तुलसी के पत्तों के साथ ले सकते है इससे  डेंगू बुखार में आराम मिलेगा तथा डेंगू बुखार जड़ से समाप्त हो जायेगा ।

मेथी की पत्तियों का सेवन करने से तथा मेथी को भिगोकर पीसकर पेस्ट की तरह सेवन करने से डेंगू बुखार में आराम मिलता है ।

अनार के रस  का सेवन करने से डेंगू बुखार में आराम मिलता है तथा यह प्लेटलेट्स को बढ़ाने में मदद करता है ।

तुलसी के पत्तों का रस निकालकर जूस की तरह सेवन करने से डेंगू बुखार में आराम मिलता है तथा यह बुखार को समाप्त करने में मदद करता है ।

दो ग्राम कालीमिर्च में कुछ तुलसी के पत्तें मिलाकर दो गिलास पानी में तब तक उबाले जब तक पानी एक कप न रह जाए फिर ठंडा होने पर इसका सेवन करें इससे डेंगू बुखार में आराम मिलेगा ।

दूध में हल्दी मिलाकर रोगी को सेवन कराने से उसे डेंगू बुखार में आराम मिलता है ।

गेहूं की घास का रस निकालकर जूस की तरह पीने से शरीर में रो प्रतिरोधक छमता बढती है तथा डेंगू बुखार जद से समाप्त हो जाता है।

रोजाना खाली पेट लहसुन की कलियों का सेवन करने डेंगू बुखार समाप्त होता है ।

(Visited 2 times, 1 visits today)