गठिया ,बाईं का घरेलू उपचार

आज कल हमारी दिनचर्या हमारे खान –पान से गठिया का रोग 35-40 वर्ष के बाद बहुत से लोगो में पाया जा रहा है । गठिया में हमारे शरीर के जोडों में दर्द होता है, गठिया के पीछे यूरिक एसीड की बड़ी भूमिका रहती है। इसमें हमारे शरीर मे यूरिक एसीड की मात्रा बढ जाती है। यूरिक एसीड के कण घुटनों व अन्य जोडों में जमा हो जाते हैं। जोडों में दर्द से रोगी का बुरा हाल रहता है। इस रोग में रात को जोडों का दर्द बढता है और सुबह अकडन महसूस होती है।गठिया को आयुर्वेद में नामदिया कहा जाता है। आधुनिक चिकित्सा के अनुसार खून में यूरिक एसिड की अधिक मात्रा होने से गठिया रोग होता है। जैसे जैसे उम्र बढ़ती है गठिया की समस्या भी बढ़ती चली जाती है। भोजन में शामिल खाघ पदार्थों के कारण जब शरीर में यूरिक एसिड अधिक मात्रा में बनता है तब गुर्दे उन्हें खत्म नहीं कर पाते और शरीर के अलग- अलग जोड़ों में में यूरेट क्रिस्टल जमा हो जाता है। और इसी वजह से जोड़ों में सूजन आने लगती है तथा उस सूजन में दर्द होता है

gathiya ka ilaj

गठिया ,बाईं कम घरेलु उपचार —

बथुआ के ताजा पत्‍तों का रस हर दिन 15 ग्राम पिएं। इसमें स्‍वाद के लिए कुछ भी न मिलाएं। खाली पेट पीने से ज्‍यादा लाभ होता है। तीन महीने पीने से दर्द से हमेशा के लिए निजात मिल जाती है।

गठिया के उपचार में भी जामुन बहुत उपयोगी है। इसकी छाल को खूब उबालकर इसका लेप घुटनों पर लगाने से गठिया में आराम मिलता है।

एलोविरा के पत्‍ते को काटकर उसका जेल दर्द होने वाली जगह पर लगाएं। इससे काफी राहत मिलेगी।

जेतुन के तैल से मालिश करने से भी गठिया में बहुत लाभ मिलता है।

एक चम्मच मैथी बीज रात भर साफ़ पानी में गलने दें। सुबह पानी निकाल दें और मैथी के बीज अच्छी तरह चबाकर खाएं।मैथी बीज की गर्म तासीर मानी गयी है। यह गुण जोड़ों के दर्द दूर करने में मदद करता है।

गठिया का दर्द होने पर हर दिन खाना खाने से पहले से दो आलूओं का रस निकाल लें और पिएं। हर दिन कम से कम शरीर में 100 मिली. रस पीने से आराम मिलेगा।

सुबह के समय सूर्य नमस्कार और प्राणायाम करने से भी जोड़ों के दर्द से स्थाई रूप से छुटकारा मिलता है।

सौंठ यानि सूखी अदरक का सेवन करने से गठिया के रोग में आराम मिलता है, इसे आप किसी भी रूप में पकवाकर खा सकते हैं जैसे – हरीरा या लड्डू आदि।

भंयकर दर्द होने पर अरंडी के तेल से मालिश कर लें, इससे दर्द में राहत मिलने के साथ – साथ सूजन में भी कमी आती है।

गाजर को पीस कर इसमें थोड़ा सा नीम्बू का रस मिलाकर रोजाना सेवन करें । यह जोड़ो के लिगामेंट्स का पोषण कर दर्द से राहत दिलाता है।

हर सिंगार के ताजे 4-5 पत्ती को पानी के साथ पीस ले, इसका सुबह-शाम सेवन करें , अति शीघ्र स्थाई लाभ प्राप्त होगा ।

गठिया के दर्द में सिकाई करना मना होना है लेकिन अगर आप भाप यानि स्‍टीम लेते हैं तो आपको आराम मिलेगा। इसके लिए गुनगुने पानी में तौलिया भिगोकर दर्द वाली जगह पर सिकाई कर दें।

गठिया रोगी को हमेशा हरे पत्‍तेदार सब्‍जी का सेवन करना चाहिए, इससे बॉडी में ऊर्जा मिलती है और दर्द भी नहीं होता।

अमरूद की 4-5 नई कोमल पत्तियों को पीसकर उसमें थोड़ा सा काला नमक मिलाकर रोजाना खाने से से जोड़ो के दर्द में काफी राहत मिलती है।

गठिया का दर्द होने पर स्‍टीम बॉथ लें और उसके तुरंत बाद जैतून के तेल की मालिश कर लें। इससे बेहद आराम मिलेगा।

250 ग्राम दूध एवं उतने ही पानी में दो लहसुन की कलियाँ, 1-1 चम्मच सोंठ और हरड़ तथा 1-1 दालचीनी और छोटी इलायची डालकर उसे अच्छी तरह से धीमी आँच में पकायें। पानी जल जाने पर उस दूध को पीयें, शीघ्र लाभ प्राप्त होगा ।

सोंठ का एक चम्मच पाउडर का नित्य सेवन गठिया में बहुत लाभप्रद है।

Related posts:

चुकंदर के फायदे और नुकसान एक नजर में // Chukandar Ke Fayede Aur Nuksaan
स्वस्थ रहना है तो, खाली पेट रहें इन चीजो से दूर
अदरक के दस बेहतरीन फायदे
हरी बीन्स खाने के सात बड़े फायदे | 7 Big benefits of green beans
कमजोर हड्डियों को मजबूत कैसे बनायें
क्या है योग का हमारे जीवन में महत्त्व
आधे सिर के दर्द को दूर करने के सात घरेलु उपाय
दांतों से कीड़े हटाने के घरेलु उपाय
मसूढ़ों की सूजन घरेलु उपाय द्वारा कैसे दूर करें
जोड़ो के दर्द में आराम कैसे पायें
चिकनगुनिया बुखार से आराम पाने के घरेलु नुस्खे
विभिन्न रोगों के लिए कैसे लाभदायक है हरी मिर्च
थायराइड में वजन और मोटापा कैसे कम करें
पैरों की बदबू को कैसे घरेलु नुस्खों द्वारा समाप्त करें
पैदल चलने के अनोखे फायदे
पुदीने की पत्तियों का स्वास्थ्य के प्रति बेहतरीन फायदे
दुबले पतले लोग घरेलु नुस्खों द्वारा सेहत को कैसे बनाये
नारियल की गरी के स्वास्थ्य के प्रति बेहतरीन फायदे
News Reporter

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *