मसूड़ों का दर्द मसूड़ों की सूजन की दवा और घरेलू इलाज है और इससे मसूड़ों से संबंधित जिंजीविटिस, पेरिओडाँटल बीमारी और गंभीरता से लेने लायक अनेक दूसरी समस्याओं को ठीक करने में मदद मिल सकती है।इन सरल इलाजों की जानकारी आपके मुंह के स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने में मददगार होगी।. इससे स्वस्थ मसूड़ोंऔर दांतों के विषय में आपकी जागरूकता भी बढ़ेगी.।

मसूड़ों की बीमारी  का घरेलू इलाज संभव है, और इससे मसूड़ों से संबंधित जिंजीविटिस  पेरिओडाँटल बीमारी और गंभीरता से लेने लायक आहार में विटामिन-डी की मात्रा को बढ़ाएं: विटामिन-डी में एंटी-इन्फ्लामेटरी तत्व होता है, इसलिए जब आप मसूड़ों के सूजन का इलाज कर रहे हैं और चाहते हैं कि ऐसा फिर से न हो, तो इस बात को सुनिश्चित करें कि आप विटामिन-डी की यथोचित मात्रा ले रहे हैं।

MASOODHON KI SOOJAN

कैस्‍टर ऑयल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मसूड़ों की सूजन से राहत दिलाने में एक प्रभावी घरेलू उपचार है। सूजन वाले मसूड़े पर इसे लगाने से दर्द तथा सूजन से आराम मिलता है।

मुंह से संबंधित समस्याओं के निदान में नमक का पानी बहुत महत्वपूर्ण होता है। नमक के पानी से कुल्ला करने से मुंह में होने वाले संक्रमण से बचाव होता है जो मसूड़ों में सूजन आने का एक कारण है।

मसूड़ों की सूजन दूर करने की यह पारंपरिक पद्धति बहुत प्रभावकारी है। लौंग में यूगेनोल होता है जिसमें एंटीऑक्सीडेंट तथा सूजन को दूर करने का गुण होता है जो सूजन से आराम दिलाने में बहुत प्रभावी होता है।

विटामिन सी से भरपूर नींबू का सिट्रिक प्रभाव और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मुंह में बैक्‍टीरिया को पनपने से रोकता है। समस्‍या होने पर एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू निचोड़कर, दांतों में ब्रश करने के बाद इसे माउथवॉश के रूप में उपयोग करना चाहिए।

एलोवेरा जैल में एंटी-बैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण मौजूद होते है। यह मसूड़ों की सूजन को दूर करने, मसूड़ों से खून आने तथा मुंह के इंफेक्‍शन जैसी समस्याओं को दूर करने में सहायक होती है। समस्‍या से बचने के लिए एलोवेरा जैल को मसूड़ों पर लगाकर थोड़ी देर के लिए छोड़ दें। फिर पानी से कुल्‍ला कर लें।

बबूल के पेड़ की छाल मसूड़ों की सूजन से छुटकारा दिलाने में जादू की तरह काम करती है। आप बबूल की छाल को पानी में उबालकर माउथवॉश भी बना सकते हैं। तुरंत राहत पाने के लिए दिन में दो से तीन बार इस घरेलू माउथवॉश से गरारे करें।

मुंह के संक्रमण से बचाव के लिए अदरक एक प्राचीन उपचार है। अदरक में सूजन विरोधी गुण होता है जो मसूड़ों की सूजन से राहत दिलाता है तथा मुंह में होने वाले बैक्टीरिया से बचाव भी करता है।

सरसों के तेल में एंटी-बैक्टीरियल गुण सूजन को दूर करने तथा मसूड़ों की सूजन से राहत पहुंचाने में सहायक होते है। समस्‍या होने पर सरसों के तेल में थोडा नमक मिलाकर, इस पेस्‍ट को मसूड़ों पर लगायें।

मसूड़ों की सूजन से छुटकारा पाने का एक अन्य उपचार यह है कि टी ट्री ऑइल से मसूड़ों पर मालिश की जाए। यह काफी हद तक परेशानी को कम करता है तथा बिना किसी दुष्प्रभाव के सूजन को कम करता है।

Please follow and like us:
error

Related posts:

बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे | बाबा जी के आयुर्वेदिक उपचार | घरेलू इलाज
दादी माँ के घरेलू नुख्से | नानी माँ के नुस्खे | आयुर्वेदिक घरेलू उपाय
पपीते के ७ बेहतरीन फायदे | Seven benefits of papaya
नीम का पेड़ पत्ती तथा उसके फायदे - Benefits & Uses of Neem
दाँतों के दर्द के लिए घरेलू नुस्खे
अचार खाने के फायदे -
कमजोर हड्डियों को मजबूत कैसे बनायें
पीलिया से बचने के घरेलु उपाय
एनीमिया से बचने के आठ बेहतरीन उपाय
बाडी बनाने के सात आसान से घरेलु नुस्खे
पेट दर्द के घरेलु उपचार
निमोनिया से राहत पाने के घरेलु उपचार
निकली हुई तोंद को घरेलू नुस्खों द्वारा कैसे गायब करें
दांतों में ठंडा ,गर्म लगने को घरेलु नुस्खों द्वारा कैसे ठीक करें
जलने पर कौन - कौन से घरेलु नुस्खे अपनाएँ
पुदीने की पत्तियों का स्वास्थ्य के प्रति बेहतरीन फायदे
यूरीन इन्फेक्शन में घरेलु नुस्खों द्वारा आराम कैसे पायें
पेट के कीड़ों को आसानी से समाप्त करने के घरेलु नुस्खे