nakhun

 

नाखुनो की सफाई कैसे करे

नाखून हांथो के हों या पैरों के उन्हें समय-समय पर काटते रहना चाहिए . जिन लोगों के नाखून बढ़ाने का चाव है , उन्हें रोज नाखूनों की सफाई जरुर करनी चाहिए .

ध्यान रहे बढ़े हुए नाखून नवयुवती अथवा विवाहिता की शोभा तो बढाते है किन्तु काम करते समय इनसे थोड़ी असुविधा अवश्य होती है इनकी सफाई के लिए समय भी खर्च करना पड़ता है .

अगर इनके अन्दर मैं जमा हो जाए तो तो एक तो ये भद्दे लगते हैं दुसरे मैं स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक होता है .

नाखुनो की सुरक्षा कैसे करे 

 नाखूनों को बाह्य संक्रमणों से बचाएं। मैल से उपजे विषाणुओं, बैक्टीरिया, सड़े पदाथों व केमिकल आदि से सदा दूर रहे । संदेह की अवस्था में दस्ताने का प्रयोग करें, इससे नाखून सुरक्षित रहेंगे।

नींबू का रस, गुलाब जल, खीरे का रस, मेंहदी की पत्तियों का रस नाखूनों को आर्द्र रखने में सहायक है। कभी-कभार ऐसे रसों का इस्तेमाल करें। इसके लगातार प्रयोग से नाखून निखरते हैं।

बाहरी हानिकारक प्रभावों से बचाने के क्रम में नाखूनों की सुरुचिपूर्वक तेल मालिश उचित और अपेक्षित है। नहाने के बाद नाखूनों पर तेल लगाएं। शुद्ध सरसों या तिल का तेल उपयुक्त है, इससे नाखूनों में नमी बनी रहती है और नाखून सख्त नहीं पड़ते हैं।

नाखूनों को मुलायम बनाए रखने के लिए लेप-अवलेह भी प्रयोग में लाएं। अपनी अंगुलियों पर मेंहदी रचाने वाली स्त्रियों के नाखूनों में बेहतर चमक होती है। मेंहदी का लेप लगाएं। पालक-साग का लेप भी प्रभावकारी है, पालक की दो-चार पत्तियां पीस लें, उसमें जैतून का तेल मिलाकर नाखूनों पर लेप लगायें और थोड़ी देर इन्हें सूखने दें। इसी तरह कच्ची हल्दी का उबटन बनाएं और उसमें शुद्ध सरसों का तेल डालें। यह उबटन नाखूनों की चमक बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

कपड़े धोने, सब्जी काटने जैसे कार्यों से भी नाखून खराब होते हैं। हानिकारक साबुन और पाउडर, अधिक खारे जल, गर्म जल, अधिक ताप से नाखूनों को बराबर बचायें। इसी तरह अधिक ठंडा पानी भी खतरनाक है। अधिक गर्म पानी के तुरन्त बाद पानी में नाखूनों को कभी प्रविष्ट न कराएं क्योंकि तनाव और दबाव पाकर नाखून सख्त पड़ जाते हैं।

मैल या गंदगी नाखूनों के शत्रु हैं। नाखूनों में मैल न जमने दें। हाथों, खासकर अंगुलियों की विशेष साफ-सफाई करें पर अधिक गर्म पानी से नाखूनों को बचाएं। जैसे शरीर का स्नान होता है, उसी तरह नाखून-स्नान होना चाहिए। इस विशेष स्नान के लिए ठंडे पानी का ही इस्तेमाल करें। मुलायम ब्रश से मैल हटाएं। अधिक साबुन, पाउडर का प्रयोग न करें।

नाखूनों की मालिश के अच्छे परिणाम देखे गए हैं। आप मनोयोग से मालिश करें। मालिश के लिए कोई अच्छी क्रीम या जैतून का तेल लाभकारी है। मालिश से पहले सारी अंगुलियों को तेल में डुबोयें और एक हाथ से दूसरे हाथ की मालिश करें। मालिश के समय मीठे सोडे का प्रयोग करने से नाखूनों की चमक बढ़ती है।

नाखूनों की स्वाभाविक चमक को कायम रखने के लिए अधिक प्रोटीनयुक्त पदार्थों का सेवन करें।  शरीर को अपेक्षित मात्रा में कैल्शियम चाहिए। कमजोर और रोगों से ग्रस्त व्यक्ति डाक्टरों से नाखूनों का परीक्षण कराएं। अनिवार्य स्थिति में डॉक्टर कोई संबंधित टॉनिक या दवा दे सकता है।

नाखूनों की जांच-पड़ताल कराते रहें। विशेषकर नाखूनों की स्वस्थ स्थिति और नाखूनों की रंगत पर ध्यान दें। नाखून पीली और सफेद रंगत का एहसास कराएं तो चौकस हो जायें। इन्हें डाक्टर से अवश्य दिखाएं।

अधिकंतर स्त्रियां नाखूनों की खूबसूरती के लिए बाजारू नेल-पॉलिश लगाती हैं पर इससे नाखून कठोर और आभाहीन हो जाते हैं। उम्दा किस्म के पॉलिश ही प्रयोग में लाएं। कई अनभिज्ञ स्त्रियां पॉलिश करने से पूर्व अपने सारे नाखूनों को खुरचती हैं, ऐसा करना ठीक नहीं होता है। नाखून खुरचे नहीं।

(Visited 76 times, 3 visits today)