वेदों में ही सर्वप्रथम ब्रह्म और ब्रह्मांड के रहस्य पर से पर्दा हटाकर ‘मोक्ष’ की धारणा को प्रतिपादित कर उसके महत्व को समझाया गया था। मोक्ष के बगैर आत्मा की कोई गति नहीं इसीलिए ऋषियों ने मोक्ष के मार्ग को ही सनातन मार्ग माना है। ओम का यह चिह्न ‘ॐ’ अद्भुत है। यह पुरे ब्रह्मांड को प्रदर्शित करती है। बहुत सारी आकाश गंगाएँ ऐसे ही फैली हुई है। ब्रह्म का मतलब होता है विस्तार, फैलाव और बढ़ना । ओंकार ध्वनि ‘ॐ’ को दुनिया में जितने भी मंत्र है उन सबका केंद्र कहा गया है।धर्म से जुड़ी हर एक बात अच्छी लगती है। जो लोग तन एवं मन दोनों से ही खुद को धर्म के नाम पर समर्पित कर चुके हों, उनके लिए धर्म ही एकमात्र जीने का सहारा है। इसलिए जो वस्तु या शब्द या फिर स्वर उन्हें धर्म से जोड़ता हो वह उन्हें सबसे प्रिय है।

ओम का यह चिन्ह ‘ॐ’ अद्भुत है। यह संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रतीक है। बहुत-सी आकाश गंगाएँ इसी तरह फैली हुई है। ब्रह्म का अर्थ होता है विस्तार, फैलाव और फैलना। भावना से दिल की धड़कन तेज हो जाती है जिससे रक्त में ‘टॉक्सिक’ पदार्थ पैदा होने लगते हैं। इसी तरह प्रिय और मंगलमय शब्दों की ध्वनि मस्तिष्क, हृदय और रक्त पर अमृत की तरह आल्हादकारी रसायन की वर्षा करती है।

aom ka mahttv

आइये जानते है की ओम के उच्चारण से क्या -क्या फायदे है –

अगर आप भी नींद नहीं आने की समस्या से परेशान हैं तो ओम का उच्चारण शुरू कीजिए। कुछ ही देर में आपका दिमाग शांत हो जाएगा और आप बेफिक्र होकर अच्छी नींद ले सकेंगे।

ओम का उच्चारण शरीर के विषैले तत्वों को दूर करता है इसलिए तनाव को दूर करता है।

ओम की शक्ति केवल मानसिक रोगों को ठीक करने तक ही सीमित नहीं है। यह आंतरिक परेशानियों खास तौर से पाचन क्रिया पर सकारात्मक असर डालता है, और पाचन तंत्र को सुचारु बनाए रखता है।

ओम का उच्चारण आपके मन और आत्मा को बिल्कुल शांत कर देता है, जिससे घबराहट अपने आप ही चली जाती है। घबराहट का मतलब है व्याकुलता, और जहां शांति होती है वहां व्याकुलता कभी नहीं टिकती।

ओम के उच्चारण से पाचन शक्ति बढ़िया होती है।

ओम शरीर में युवावस्था वाली स्फूर्ति का संचार करता है।

थायरॉइड ग्रंथि‍ की किसी भी प्रकार की समस्या में ओमका उच्चारण काफी लाभप्रद होता है। यह आपके स्वर और गले में कंपन्न पैदा करता है जिसका असर थायरॉइड ग्रंथि‍ पर भी सकारात्मक रूप से पड़ता है।

ओम का उच्चारण करना आपके रक्त संचार को सही करता है एवं संतुलन बनाए रखता है। इस तरह से आपको उच्च व निम्न रक्तचाप संबंधी समस्याएं नहीं होती।

अगर आप किसी भी प्रकार के काम से थकान महसूस कर रहे हैं, तो आपके लिए ओम का उच्चारण दवा का काम करेगा। बस कुछ देर आंखें बंद करके किजिए ओम का उच्चारण और आप महसूस करेंगे थकान से आजादी।

 

 

Please follow and like us:
error

Related posts:

सपने में ट्रेन देखना | स्वप्न फल | Swapna phal of seeing train in dreams
२५१ सपनो के मतलब जाने | 251 Swapna Phal in Hindi // Swapn Jyotish
मूलांक के अनुसार औषधियों और वनस्पतियों का उपयोग
जानिये आप का मूलांक क्या है
मात्र 7 दिन में खुशियों से झोली भर देंगे गणेश जी के यह 3 मंत्र
वैभव लक्ष्मी जी का व्रत करके धनवान बनने का उपाय
भारतीय समाज में त्योंहारो का महत्व
वास्तु दोष कितने प्रकार के होते है और उनको दूर करने के उपाय
शिव जी को प्रसन्न करने वाला सोलह सोमवार का व्रत के नियम
माँ लक्ष्मी को कैसे प्रसन्न करें
घर से नकारात्मक ऊर्जा को कैसे भगाएं
घर में सकारात्मक उर्जा को कैसे बनाये रखें
जानिये लोग भूत प्रेंतों में विश्वास क्यों करतें है
मनी प्लांट का पेड़ धन की वर्षा वाला क्यूँ मन जाता है
घर में लक्ष्मी के आगमन के लिए कौन -कौन से तरीके अपनाएँ
जाने , श्री विष्णु जी को हम कैसे खुश कर सकते है
प्रथम पूज्यनीय गणेश जी को कैसे प्रसन्न किया जाए
इन फलाहारी चीजों का सेवन करने से आप नवरात्री के दिनों में भी स्वस्थ रह सकते है