टेढ़े – मेढ़े दांतों को कैसे ठीक करें

एक प्यारी से मुस्कराहट चेहरे की खूबसूरती और भी बढ़ा देती है। मुस्कुराते वक़्त सभी के दांत दिखाई देते है और दांतों के बीच का गैप, दांत मुँह से बाहर निकले हुए है या फिर दाँत टेढ़े मेढ़े है तो हम खुल कर हंसने से झिझकते है। कुछ लोग दांतों के बीच खाली जगह ठीक करने और टेढ़े मेढ़े दांतों को सीधा करने के लिए ब्रेसेस का सहारा लेते है जिसमें तार से दांत सीधे करने का प्रयास किया जाता है। दांत हमारे खूबसूरती का बेहद अहम हिस्सा होता है.। लेकिन वही दांत अगर किसी कारण से अच्छा ना दिखे तो हम खुलकर हंस भी नहीं पाते. खासकर जिनके दांत टेढ़े-मेढ़े हो और दांतो के बीच में गैप हो तो व्यक्ति के मन में झिझक पैदा करता है। . और लोग इस कमी को दूर करने के लिए ब्रेसेस का सहारा लेते हैं। .

TEDHE -MEDHE DAANTON KO GHARELU NUSKHON DWARA KAISE THIK KAREN

आइये जानते है की कौन -कौन से उपाय अपनाकर दांतों को सीधा किया जा सकता है –

यदि आप दांतों में ब्रेसेर्स नहीं लगवाना चाहते है तो आप घर पर ही अपनी जीभ अथवा ऊँगली के द्वारा दांतों पर दबाव डालकर टेढ़े -मेढ़े दांतों को सीधा कर सकतें है । पर इस तरह से दांत सीधे होने में कुछ समय लेते है। इसलिए घबराएं नहीं और इस उपाय को लगातार करते जाएँ इससे दांत कुछ दिनों में सीधे हो जायेंगे ।

यदि आप दांतों में ब्रेसर्स नहीं लगवाना चाहते है । तो आप दांतों में सफ़ेद रंग का प्लास्टिक कवर लगवा सकतें है । यह दांतों में सटकर बैठता है तथा पारदर्शी होने की वजह से यह किसी को दिखाई भी नहीं देता है। और सटीक बैठने की वजह से यह दांतों पर एक तरह से दबाव डालता है । जिसकी वजह से टेढ़े -मेढ़े दातं कुछ ही दिनों यथास्थान सटीक होकर अपनी जगह पर स्थित हो जातें है ।

आप टेढ़े -मेढ़े दांतों को सीधा करने के लिए अन्य तरीके से भी दबाव डालकर सीधा कर सकतें है। पर यदि आपको इससे किसी भी तरह के दर्द का अनुभव हो तो डाक्टर से अवश्य सलाह लें । और यदि डाक्टर आपको ब्रेसर्स लगाने की सलाह देतें है । तो आप उसे जरूर लगवाएं क्यूंकि ये सिमित समय में टेढ़े – मेढ़े दांतों को सीधा करने में मदद करता है ।

यदि आपकी के बल सोने की आदत है। तो ऐसा न करें और सीधा सोने की कोशिश करें क्यूंकि इससे मुहं की तरफ प्रेशर पड़ता है जिसकी वजह अपनी जगह से हटकर टेढ़े -मेढ़े होने लगतें है ।

अधिकतर बच्चों की अंगूठा चूसने की आदत होती है जिसकी वजह से दांतों को तथा मुहं में एक तरह से प्रेशर पड़ता है । जिसकी वजह से दांत टेढ़े -मेढ़े हो जाते है ।

कभी -कभी बच्चे नाक से श्वांस लेने की जगह मुहं से श्वांस लेने लगता है । जिसका उन पर बहुत बुरा असर पड़ता है और प्रेशर पड़ने की वजह से दांत टेढ़े -मेढ़े होने लगते है ।

 

Related posts:

बाबा रामदेव के घरेलू नुस्खे | बाबा जी के आयुर्वेदिक उपचार | घरेलू इलाज
पपीते के ७ बेहतरीन फायदे | Seven benefits of papaya
आँखों की देखभाल
दाँतों को स्वस्थ रखने के लिए रखें इन ५ बातों का ध्यान
दही का उपचार एवं प्रयोग एवं फायदे
काली मिर्च के 5 फायदे // Five Benefits of Black pepper
आधे सिर के दर्द को दूर करने के सात घरेलु उपाय
जाने सरसों के तेल में सेहत का राज
शरीर से विषैले पदार्थ को निकलने के नौ आसान उपाय
चिकनगुनिया बुखार से आराम पाने के घरेलु नुस्खे
सफ़ेद बालों को घरेलु नुस्खों द्वारा कैसे ठीक करें
फटें हुए होंठों को घरेलु नुस्खों द्वारा कैसे ठीक करें
जलने पर कौन - कौन से घरेलु नुस्खे अपनाएँ
पैदल चलने के अनोखे फायदे
काफी के स्वास्थ्य के प्रति बेहतरीन फायदे
हाथ -पैर के सुन्न होने पर कौन -कौन से घरेलु नुस्खे अपनाएँ
कब्ज को समाप्त करने के आसान घरेलु नुस्खे
इन फलाहारी चीजों का सेवन करने से आप नवरात्री के दिनों में भी स्वस्थ रह सकते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *